Breaking

Monday, 8 March 2021

March 08, 2021

Aaj Ka Panchang 09 March 2021: मंगलवार पंचांग से जानिए आज की तिथि, शुभ मुहूर्त; योग और राहुकाल

Aaj Ka Panchang 09 March 2021: मंगलवार पंचांग से जानिए आज की तिथि, शुभ मुहूर्त; योग और राहुकाल


दिनांक : 09 मार्च 2021 

आज का पंचांग   


सूर्योदय का समय : प्रातः 06:38

सूर्यास्त का समय : सायं 06:26

 

चंद्रोदय का समय : प्रातः 04:49 (10 मार्च)

चंद्रास्त का समय : दोपहर 02:32


तिथि संवत :-

दिनांक - 09 मार्च 2021

मास - फाल्गुन

पक्ष - कृष्ण पक्ष

तिथि - विजया एकादशी मंगलवार दोपहर 03:02 तक रहेगी

अयन -  सूर्य उत्तरायण

ऋतु -  शिशिर ऋतु

विक्रम संवत - 2077

शाके संवत - 1942
 

सूर्यादय कालीन नक्षत्र :-

नक्षत्र - उत्तराषाढ़ा नक्षत्र रात्रि 08:42 तक रहेगा इसके बाद श्रवण नक्षत्र रहेगा

योग - वरियान योग दोपहर 12:06 तक रहेगा इसके बाद परिघ योग रहेगा

करण - बालव करण दोपहर 03:02 तक रहेगा इसके बाद कौलव करण रहेगा

ग्रह विचार :-

सूर्यग्रह - कुम्भ

चंद्रग्रह - मकर 

मंगलग्रह - वृषभ

बुधग्रह - मकर

गुरूग्रह - मकर

शुक्रग्रह - कुम्भ

शनिग्रह - मकर

राहु - वृषभ

केतु - वृश्चिकराशि में स्थित है

* शुभ समय *

अभिजित मुहूर्त :-

दोपहर 12:08 से दोपहर 12:55 तक  रहेगा

त्रिपुष्कर योग  :-

दोपहर 03:02 से रात्रि 08:42 तक  रहेगा

विजय मुहूर्त :-

दोपहर 02:30 से दोपहर 03:17 तक  रहेगा

गोधूलि मुहूर्त :-

सायं 06:14 से सायं 06:38 तक  रहेगा

निशिता मुहूर्त :-

रात्रि 12:07 से रात्रि 12:56 तक  रहेगा

ब्रह्म मुहूर्त :-

प्रातः 04:59 (10 मार्च) से प्रातः 05:48 तक  रहेगा


* अशुभ समय * 

राहुकाल :-

दोपहर 03:29 से सायं 04:57 तक  रहेगा

गुलिक काल :-

दोपहर 12:32 से दोपहर 02:00 तक  रहेगा

यमगण्ड :-

प्रातः 09:35 से प्रातः 11:03 तक  रहेगा

दूमुहूर्त :-

प्रातः 08:59 से प्रातः 09:46 तक  रहेगा

रात्रि 11:18 से रात्रि 12:07 तक  रहेगा

वर्ज्य :-

रात्रि 12:45 से रात्रि 02:23 तक  रहेगा

दिशाशूल :-

उत्तर दिशा की तरफ रहेगा यदि जरुरी हो तो दूध  पीकर यात्रा कर सकते है

चौघड़िया मुहूर्त :-

दिन का चौघड़िया 

प्रातः 06:38 से 08:06 तक रोग का

प्रातः 08:06 से 09:35 तक उद्वेग का

प्रातः 09:35 से 11:03 तक चर का

प्रातः 11:03 से 12:32 तक लाभ का

दोपहर 12:32 से 02:00 तक अमृत का

दोपहर 02:00 से 03:29 तक काल का

दोपहर बाद 03:29 से 04:57 तक शुभ का

सायं 04:57 से 06:26 तक रोग का चौघड़िया  रहेगा


रात का चौघड़िया

सायं 06:26 से 07:57 तक काल का

रात्रि 07:57 से 09:29 तक लाभ का

रात्रि 09:29 से 11:00 तक उद्वेग का

रात्रि 11:00 से 12:31 तक शुभ का

अधोरात्रि 12:31 से 02:03 तक अमृत का

रात्रि 02:03 से 03:34 तक चर का

प्रातः (कल) 03:34 से 05:05 तक रोग का

प्रातः (कल) 05:05 से 06:36 तक काल का चौघड़िया रहेगा


आज विशेष :-

आज वरियान योग में खेत अथवा भूमि दान करना शुभ फलदायी होता है आज मंगलवार को तांबे के पात्र में गुड़ भरकर प्रत्येक मंगलवार को दान करने से मंगल जनित दोष दूर होते है और वर्षपर्यत ऐसा करने से गोदान का फल मिलता है आज उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में विश्वेदेवा का उत्तम प्रकार के गंध फल फूल दूध दही भोज्य धूप व दीप आदि से पूजन कर व्रत करें तो समस्त मनोकामनाएं पूरी होती है


* मंगलवार  व्रत की कथा *

पूजा विधि :-

सर्व सुखरक्त विकारराज्य सम्मान तथा पुत्र की प्राप्ति के लिये मंगलवार का व्रत उत्तम है । इस व्रत मे गेहूँ ओर गुड़ का भोजन करना चाहिए। भोजन दिन रात में एक बार ही ग्रहण करना ठीक है। व्रत 21 सप्ताह तक करे मंगलवार के व्रत से मनुष्य के समस्त दोष नष्ट हो जाते है व्रत के पूजन के समय लाल पुष्पो को चढ़ावे ओर लाल वस्त्र धारण करे। अन्त मे हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए तथा मंगलवार की कथा सुननी चाहिए ।

कथा प्रारम्भ :-

एक ब्राह्मण दम्पति के कोई सन्तान नही थीजिसके कारण पति-पत्नि दु:खी थे। वह ब्राह्मण हनुमान जी की पुजा हेतु वन चला गया। वह पुजा के साथ महावीर जी से एक पुत्र की प्राप्ति के लिए कामना करने प्रकट किया करता था। घर पर उसकी पत्नि मंगलवार व्रत पुत्र प्राप्ति के लिए किया करती थी। मंगलवार के दिन व्रत के अन्त भोजन ग्रहण करती थी। मंगलवार के दिन व्रत के अंत भोजन बनाकर हनुमान जी को भोग लगाने के बाद स्वयं भोजन ग्रहण करती थी। 

एक बार कोई व्रत आ गया। जिसके कारण ब्राह्मणी भोजन न बना सकी तब हनुमान जी का भोग भी नहीं लगाया। वह अपने मन मे ऐसा प्रण करके सो गई कि अब अगले मंगलवार के दिन तो उसे मूर्छा आ गई तब हनुमान जी उसकी लगन और निष्ठा को देखकर प्रसन्न हो गए। उन्होने उसे दर्शन दिया और कहा- "मैं तुमसे अति प्रसन्न हुँ। मै तुझको एक सुन्दर बालक देता हुँ। जो तेरी सेवा किया करेगा।" हनुमान जी बाल रूप मे उसको दर्शन देकर अंतर्धान हो गए।

 सुन्दर बालक पाकर ब्राह्मणी अति प्रसन्न हुई। ब्राह्मणी ने बालक का नाम मंगल रखा। कुछ समय पश्चात् ब्राह्मण वन से लौटकर आया । प्रसन्नचित सुन्दर बालक को घर मे,कीड़ा करते देखकर पत्नी से बोला- यह बालक कौन है ?" पत्नी ने कहा- मंगलवार के व्रत से प्रसन्न होकर हनुमान जी ने दर्शन देकर मुझे बालक दिया है।" पत्नी की बात छल से भरी जान उसने सोचा यह कुल्टा व्यभिचारिणी अपनी कुलषता छुपाने के लिए बात बना रही है। 

एक दिन उसका पति कुएँ पर पानी भरने चला तो पत्नी ने कहा मंगल को साथ ले जाओ। वह मंगल को साथ ले चला और उसको कुएँ मे डालकर वापिस पानी भरकर घर आया तब पत्नी ने पूछा मंगल कहाँ है तभी मंगल मुस्कराता हुआ घर आ गया। उसको देख ब्राह्मण आश्चर्य चकित हुआ रात्रि को हनुमान जी ने उसको स्वप्न मे कहा- यह बालक मैने दिया है तुम पत्नी को कुल्टा क्यो कहते हो।” पति यह जानकर हर्षित हुआ। फिर पति-पत्नि मंगलवार का व्रत रख अपना जीवन आनन्दपूर्वक व्यतीत करने लगे। 

जो मनुष्य मंगलवार के व्रत को नियम से करता है अथवा इस कथा को पढ़ता ओर सुनता है ।उसके हनुमान जी की कृपा से सब कष्ट दूर होकर सर्व सुख प्राप्त होता है।   

Sunday, 7 March 2021

March 07, 2021

Aaj Ka Panchang 08 March 2021: सोमवार पंचांग से जानिए आज की तिथि, शुभ मुहूर्त; योग और राहुकाल

Aaj Ka Panchang 08 March 2021: सोमवार पंचांग से जानिए आज की तिथि, शुभ मुहूर्त; योग और राहुकाल


दिनांक : 08 मार्च 2021

आज का पंचांग   


सूर्योदय का समय : प्रातः 06:39

सूर्यास्त का समय : सायं 06:25

 

चंद्रोदय का समय : प्रातः 04:01 (09 मार्च)

चंद्रास्त का समय : दोपहर 01:32


तिथि संवत :-

दिनांक - 08 मार्च 2021 

मास - फाल्गुन

पक्ष - कृष्ण पक्ष

तिथि - दशमी सोमवार कल दोपहर 03:44 तक रहेगी

अयन -  सूर्य उत्तरायण

ऋतु -  शिशिर ऋतु

विक्रम संवत - 2077

शाके संवत - 1942
 

सूर्यादय कालीन नक्षत्र :-

नक्षत्र - पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र रात्रि 08:40 तक रहेगा इसके बाद उत्तराषाढ़ा नक्षत्र रहेगा

योग - व्यतीपात योग दोपहर 01:51 तक रहेगा इसके बाद वरियान योग रहेगा

करण - विष्टी करण दोपहर 03:44 तक रहेगा इसके बाद बव करण रहेगा

ग्रह विचार :-

सूर्यग्रह - कुम्भ

चंद्रग्रह - धनु 

मंगलग्रह - वृषभ

बुधग्रह - मकर

गुरूग्रह - मकर

शुक्रग्रह - कुम्भ

शनिग्रह - मकर

राहु - वृषभ

केतु - वृश्चिकराशि में स्थित है

* शुभ समय *

अभिजित मुहूर्त :-

दोपहर 12:08 से दोपहर 12:56 तक  रहेगा

विजय मुहूर्त :-

दोपहर 02:30 से दोपहर 03:17 तक  रहेगा

गोधूलि मुहूर्त :-

सायं 06:14 से सायं 06:38 तक  रहेगा

निशिता मुहूर्त :-

रात्रि 12:07 से रात्रि 12:56 तक  रहेगा

ब्रह्म मुहूर्त :-

प्रातः 05:00 (09 फरवरीसे प्रातः 05:49 तक  रहेगा


* अशुभ समय * 

राहुकाल :-

प्रातः 08:07 से प्रातः 09:35 तक  रहेगा

गुलिक काल :-

दोपहर 02:00 से दोपहर 03:29 तक  रहेगा

यमगण्ड :-

प्रातः 11:04 से दोपहर 12:32 तक  रहेगा

दूमुहूर्त :-

दोपहर 12:56 से दोपहर 01:43 तक  रहेगा

दोपहर 03:17 से सायं 04:04 तक  रहेगा

वर्ज्य :-

प्रातः 04:41 (09 मार्च) से प्रातः 06:17 तक  रहेगा

भद्रा :-

प्रातः 06:39 से दोपहर 03:44 तक  रहेगा

दिशाशूल :-

पूर्व दिशा की तरफ रहेगा यदि जरुरी हो तो घी खाकर यात्रा कर सकते है

चौघड़िया मुहूर्त :-

दिन का चौघड़िया 

प्रातः 06:39 से 08:07 तक अमृत का

प्रातः 08:07 से 09:35 तक काल का

प्रातः 09:35 से 11:04 तक शुभ का

प्रातः 11:04 से 12:32 तक रोग का

दोपहर 12:32 से 02:00 तक उद्वेग का

दोपहर 02:00 से 03:29 तक चर का

दोपहर बाद 03:29 से 04:57 तक लाभ का

सायं 04:57 से 06:25 तक अमृत का चौघड़िया  रहेगा


रात का चौघड़िया

सायं 06:25 से 07:57 तक चर का

रात्रि 07:57 से 09:28 तक रोग का

रात्रि 09:28 से 11:00 तक काल का

रात्रि 11:00 से 12:31 तक लाभ का

अधोरात्रि 12:31 से 02:03 तक उद्वेग का

रात्रि 02:03 से 03:35 तक शुभ का

प्रातः (कल) 03:35 से 05:06 तक अमृत का

प्रातः (कल) 05:06 से 06:38 तक चर का चौघड़िया रहेगा


आज विशेष :-

आज व्यतिपात योग में बैल दान करना शुभ फलदयी होता है आज पूर्वाषाढ़ा नक्षत्र में जल देवता का गंध फल फूल धूप व दीप आदि से पूजन कर व्रत करें तो समस्त मनोकामनाएं पूरी होती है


* सोमवार व्रत कथा *

विधि :-

सोमवार का व्रत साधारणतया दिन के तीसरे पहर तक होता है। व्रत में फलाहार या पारायण का कोई खास नियम नहीं है किन्तु यह आवश्यक है कि दिन रात में केवल एक समय भोजन करें। सोमवार के व्रत में शिवजी पार्वती का पूजन करना चाहिए। सोमवार के व्रत तीन प्रकार के हैं साधारण प्रति सोमवारसौम्य प्रदोष और सोलह सोमवारविधि तीनों की एक जैसी है। शिव पूजन के पश्चात् कथा सुननी चाहिए।

सोमवार व्रत कथा प्रारम्भ :- 

एक बहुत धनवान साहूकार थाजिसके घर धन आदि किसी प्रकार की कमी नहीं थी। परन्तु उसको एक दुःख था कि उसके कोई पुत्र नहीं था। वह इसी चिन्ता में रात-दिन रहता था और वह पुत्र की कामना के लिए प्रति सोमवार को शिवजी का व्रत और पूजन किया करता था तथा सायंकाल को शिव मन्दिर में जाकर के शिवजी के श्री विग्रह के सामने दीपक जलाया करता था। 

उसके इस भक्तिभाव को देखकर एक समय श्री पार्वती जी ने शिवजी महाराज से कहा कि महाराजयह साहूकार आप का अनन्य भक्त है और सदैव आपका व्रत और पूजन बड़ी श्रद्धा से करता है। इसकी मनोकामना पूर्ण करनी चाहिए। शिवजी ने कहा- हे पार्वती! यह संसार कर्मक्षेत्र है। जैसे किसान खेत में जैसा बीज बोता है वैसा ही फल काटता है। उसी तरह इस संसार में जैसा कर्म करते हैं वैसा ही फल भोगते हैं। 

पार्वती जी ने अत्यन्त आग्रह से कहा-'महराज! जब यह आपका अनन्य भक्त है और इसको अगर किसी प्रकार का दुःख है तो उसको अवश्य दूर करना चाहिएक्योंकि आप सदैव अपने भक्तों पर दयालु होते हैं और उनके दुःखों को दूर करते हैं। यदि आप ऐसा नहीं करेंगे तो मनुष्य आपकी सेवा तथा व्रत क्यों करेंगे।" पार्वती जी का ऐसा आग्रह देख शिवजी महाराज कहने लगे-'हे पार्वती! इसके कोई पुत्र नहीं है इसी चिन्ता में यह अति दुःखी रहता है। 

इसके भाग्य में पुत्र न होने पर भी मैं इसको पुत्र की प्राप्ति का वर देता हूँ। परन्तु यह पुत्र केवल 12 वर्ष तक जीवित रहेगा। इसके पश्चात् वह मृत्यु को प्राप्त हो जायेगा। इससे अधिक मैं और कुछ इसके लिए नहीं कर सकता।" यह सब बातें साहूकार सुन रहा था। इससे उसको न कुछ प्रसन्नता हुई और न ही कुछ दुःख हुआ। वह पहले जैसा ही शिवजी महाराज का व्रत और पूजन करता रहा। कुछ काल व्यतीत हो जाने पर साहूकार की स्त्री गर्भवती हुई और दसवें महीने उसके गर्भ से अति सुन्दर पुत्र की प्राप्ति हुई। 

साहूकार के घर में बहुत खुशी मनाई गई परन्तु साहूकार ने उसकी केवल बारह वर्ष की आयु जान कोई अधिक प्रसन्नता प्रकट नहीं की और न ही किसी को भेद ही बताया। जब वह बालक 11 वर्ष का हो गया तो उस बालक की माता ने उसके पिता से विवाह आदि के लिए कहा तो वह साहूकार कहने लगा कि अभी मैं उसका विवाह नहीं करूंगा। 

अपने पुत्र को काशी जी पढ़ने के लिए भेजूंगा। फिर साहूकार ने अपने साले अर्थात् बालक के मामा को बुला उसको बहुत सा धन देकर कहा तुम बालक को काशी जी पढ़ने के लिये ले जाओ और रास्ते में जिस स्थान पर भी जाओ यज्ञ करते हुए ब्राहमणों को भोजन कराते जाओ। वह दोनों मामा-भानजे यज्ञ करते और ब्राहमणों को भोजन कराते जा रहे थे। रास्ते में उनको एक शहर पड़ा। 

उस शहर में राजा की कन्या का विवाह था और दूसरे राजा का लड़का जो विवाह कराने के लिए बारात लेकर आया थावह एक आँख से काना था। उसके पिता को इस बात की बड़ी चिन्ता थी कि कहीं वर को देख कन्या के माता-पिता विवाह में किसी प्रकार की अड़चन पैदा न कर दें। इस कारण जब उसने अति सुन्दर सेठ के लड़के को देखा तो मन में विचार किया कि क्यों न दरवाजे के समय इस लड़के से वर का काम चलाया जाये। 

ऐसा विचार कर वर के पिता ने उस लड़के और मामा से बात की तो वे राजी हो गये। फिर उस लड़के को वर के कपड़े पहना तथा घोड़ी पर चढ़ा दरवाजे पर ले गये और सब कार्य प्रसन्नता से पूर्ण हो गया। फिर वर के माता पिता ने सोचा कि यदि विवाह कार्य भी इसी लड़के से करा लिया जाय तो क्या बुराई हैऐसा विचार कर लडके और उसके मामा से कहा-यदि आप फेरों का और कन्यादान के काम को भी करा दें तो आपकी बड़ी कृपा होगी और मैं इसके बदले में आपको बहुत कुछ धन दूंगा तो उन्होंने स्वीकार कर लिया और विवाह कार्य भी बहुत अच्छी तरह से सम्पन्न हो गया। 

परन्तु जिस समय लड़का जाने लगा तो उसने राजकुमारी की चुन्दड़ी के पल्ले पर लिख दिया कि तेरा विवाह तो मेरे साथ हुआ हैपरन्तु जिस राजकुमार के साथ भेजेंगे वह एक आँख से काना है और मैं काशी जी पढ़ने जा रहा हूँ। लड़के के जाने के पश्चात् उस राजकुमारी ने जब अपनी चुन्दड़ी पर ऐसा लिखा हुआ पाया तो उसने राजकुमार के साथ जाने से मना कर दिया और कहा कि यह मेरा पति नहीं है। मेरा विवाह इसके साथ नहीं हुआ है। वह तो काशी जी पढ़ने गया है। 

राजकुमारी के माता-पिता ने अपनी कन्या को विदा नहीं किया और बारात वापस चली गयीं। उधर सेठ का लड़का और उसका मामा काशी जी में पहुंच गये। वहाँ जाकर उन्होंने यज्ञ करना और लड़के ने पढ़ना शुरू कर दिया। जब लड़के की आयु बारह साल की हो गई उस दिन उन्होंने यज्ञ रचा रखा था कि लड़के ने अपने मामा से कहा-"मामाजी आज मेरी तबियत कुछ ठीक नहीं है।" मामा ने कहा- "अन्दर जाकर सो जाओ। 

लड़का अन्दर जाकर सो गया और थोड़ी देर में उसके प्राण निकल गए। जब उसके मामा ने आकर देखा तो वह मुर्दा पड़ा है तो उसको बड़ा दुःख हुआ और उसने सोचा कि अगर मैं अभी रोना-पीटना मचा दूंगा तो यज्ञ का कार्य अधूरा रह जाएगा। अतः उसने जल्दी से यज्ञ का कार्य समाप्त कर ब्राहाणों के जाने के बाद रोना- पीटना आरम्भ कर दिया। संयोगवश उसी समय शिव-पार्वतीजी उधर से जा रहे थे। जब उन्होंने जोर-जोर से रोने की आवाज सुनी तो पार्वती जी कहने लगीं-"महाराज! कोई दुखिया रो रहा है 

इसके कष्ट को दूर कीजिये। जब शिव-पार्वती ने पास जाकर देखा तो वहां एक लड़का मुर्दा पड़ा था। पार्वती जी के कहने लगी-महाराज यह तो उसी सेठ का लड़का है जो आपके वरदान से हुआ था। शिवजी कहने लगे-"हे पार्वती! इसकी आयु इतनी थी सो यह भोग चुका।" तब पार्वती जी ने कहा- "हे महाराज! इस बालक को और आयु दो नहीं तो इसके माता-पिता तड़प-तड़प कर मर जायेंगे।" पार्वती जी के बार-बार आग्रह करने पर शिवजी ने उसको जीवन वरदान दिया और शिवजी महाराज की कृपा से लड़का जीवित हो गया। शिव-पार्वती कैलाश पर्वत चले गये। 

तब वह लड़का और मामा उसी प्रकार यज्ञ करते तथा ब्राहाणों को भोजन कराते अपने घर की ओर चल पड़े। रास्ते में उसी शहर में आए जहां उसका विवाह हुआ था। वहां पर आकर उन्होंने यज्ञ आरम्भ कर दिया तो उस लड़के के ससुर ने उसको पहचान लिया और अपने महल में ले जाकर उसकी बडी खातिर कीसाथ ही बहुत दास-दासियों सहित आदर पूर्वक लड़की और जमाई को विदा किया। जब वह अपने शहर के निकट आए तो मामा ने कहा कि मैं पहले तुम्हारे घर जाकर खबर कर लेता हूँ। 

जब उस लड़के का मामा घर पहुंचा तो लड़के के माता-पिता घर की छत पर बैठे थे और यह प्रण कर रखा था कि यदि हमारा पुत्र सकुशल लौट आया तो हम राजी- खुशी नीचे आ जायेंगे नहीं तो छत से गिरकर अपने प्राण खो देंगे। इतने में उस लड़के के मामा ने आकर यह समाचार दिया कि आपका पुत्र आ गया है तो उनको विश्वास नहीं आया तब उसके मामा ने शपथपूर्वक कहा कि आपका पुत्र अपनी स्त्री के साथ बहुत सारा धन साथ लेकर आया है तो सेठ ने आनन्द के साथ उसका स्वागत किया और बड़ी प्रसन्नता के साथ रहने लगे। इसी प्रकार से जो कोई भी सोमवार के व्रत को धारण करता है अथवा इस कथा को पढ़ता या सुनाता है उसकी समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती है।