Breaking

Wednesday, 9 October 2019

09:19

कामिका एकादशी

कामिका एकादशी
(श्रावण कृष्ण एकादशी)

युधिष्ठिर ने पूछा : गोविन्द वासुदेव । आपको मेरा नमस्कार है। श्रावण के कृष्णपक्ष में कौन सी एकादशी होती है कृपया उसका वर्णन कीजिये ।

भगवान श्रीकृष्ण बोले : राजन् ! सुनो । मैं तुम्हें एक पापनाशक उपाख्यान सुनाता हूँजिसे पूर्वकाल में ब्रह्माजी ने नारदजी के पूछने पर कहा था ।
09:17

अजा एकादशी

अजा एकादशी
(भाद्रपद कृष्ण एकादशी)

युधिष्ठिर ने पूछा : जनार्दन । अब मैं यह सुनना चाहता हूँ कि भाद्रपद मास के कृष्णपक्ष में कौन सी एकादशी होती है कृपया बताइये ।

भगवान श्रीकृष्ण बोले : राजन् । एकचित्त होकर सुनो । भाद्रपद मास के कृष्णपक्ष की एकादशी का नाम 'अजाहै । वह सब पापों का नाश करनेवाली बतायी गयी है । भगवान ह्रषीकेश का पूजन करके जो इसका व्रत करता है उसके सारे पाप नष्ट हो जाते हैं।
09:16

पधा एकादशी

पधा एकादशी
(भाद्रपद शुक्ल एकादशी)

युधिष्ठिर ने पूछा : केशव । कृपया यह बताइये कि भाद्रपद मास के शुक्लपक्ष में जो एकादशी होती हैउसका क्या नाम है. उसके देवता कौन हैं और कैसी विधि है 

भगवान श्रीकृष्ण बोले : राजन् । इस विषय में मैं तुम्हें आश्चर्यजनक कथा सुनाता हैजिसे ब्रह्माजी ने महात्मा नारद से कहा था ।
09:15

इन्दिरा एकादशी

इन्दिरा एकादशी
(आश्विन कृष्ण एकादशी)

युधिष्ठिर ने पूछा : हे मधुसूदन ! कृपा करके मुझे यह बताइये कि आश्विन के कृष्णपक्ष में कौन सी एकादशी होती है ?

भगवान श्रीकृष्ण बोले : राजन् । आश्विन के कृष्णपक्ष में 'इन्दिरानाम की एकादशी होती है। उसके व्रत के प्रभाव से बड़े बड़े पापों का नाश हो जाता है । नीच योनि में पड़े हुए पितरों को भी यह एकादशी सदगति देनेवाली है ।
09:14

पापांकुशा एकादशी

पापांकुशा एकादशी
(आश्विन शुक्ल एकादशी)

युधिष्ठिर ने पूछा : हे मधुसूदन । अब आप कृपा करके यह बताइये कि आश्विन के शुक्लपक्ष में किस नाम की एकादशी होती है और उसका माहात्म्य क्या है ?

भगवान श्रीकृष्ण बोले : राजन् । आश्विन के शुक्लपक्ष में जो एकादशी होती हैवह 'पापांकुशा के नाम से विख्यात है । वह सब पापों को हरनेवालीस्वर्ग और मोक्ष प्रदान करनेवालीशरीर को निरोग बनानेवाली तथा सुन्दर स्त्रीधन तथा मित्र देनेवाली है । यदि अन्य कार्य के प्रसंग से भी मनुष्य इस एकमात्र एकादशी को उपास कर ले तो उसे कभी यम यातना नहीं प्राप्त होती ।
09:12

रमा एकादशी

रमा एकादशी
(कार्तिक कृष्ण एकादशी)

युधिष्ठिर ने पूछा : जनार्दन ! मुझ पर आपका स्नेह हैअत: कृपा करके बताइये कि कार्तिक के कृष्णपक्ष में कौन सी एकादशी होती है?

भगवान श्रीकृष्ण बोले : राजन् । कार्तिक  के कृष्णपक्ष में 'रमानाम की विख्यात और परम कल्याणमयी एकादशी होती है यह परम उत्तम है और बड़े बड़े पापों को हरनेवाली है।
09:11

प्रबोधिनी एकादशी

प्रबोधिनी एकादशी
(कार्तिक शुक्ल एकादशी)

भगवान श्रीकृष्ण ने कहा : हे अर्जुन । मैं तुम्हें मुक्ति देनेवाली कार्तिक मास के शुक्लपक्ष की 'प्रबोधिनी एकादशीके सम्बन्ध में नारद और ब्रह्माजी के बीच हुए वार्तालाप को सुनाता हूँ । एक बार नारादजी ने ब्रह्माजी से पूछा : 'हे पिता । प्रबोधिनी एकादशीके व्रत का क्या फल होता हैआप कृपा करके मुझे यह सब विस्तारपूर्वक बतायें ।'

ब्राह्माजी बोले : हे पुत्र । जिस वस्तु का त्रिलोक में मिलना दुष्कर हैवह वस्तु भी कार्तिक मास के शुक्लपक्ष की प्रबोधिनी एकादशी के व्रत से मिल जाती है । इस व्रत के प्रभाव से पूर्व जन्म के किये हुए अनेक बुरे कर्म क्षणभर में नष्ट हो जाते है । हे पुत्र । जो मनुष्य श्रद्धापूर्वक इस दिन थोड़ा भी पुण्य करते हैंउनका वह पुण्य पर्वत के समान अटल हो जाता है । उनके पितृ विष्णुलोक में जाते हैं